Tuesday, July 16, 2024
spot_imgspot_img
Homeउत्तराखण्ड़उत्तरकाशी की सुरंग में हुए भूस्खलन में बचाव अभियान जारी यहां पढ़े...

उत्तरकाशी की सुरंग में हुए भूस्खलन में बचाव अभियान जारी यहां पढ़े हादसे से जुड़ी हर अपडेट ।

सुराख से ऑक्सीजन, पाइप से खाना... 24 घंटे से उत्तरकाशी की सुरंग में फंसी 40 जानों को बचाने की जंग जारी

उत्तरकाशी में निर्माणाधीन सुरंग में हुए भूस्खलन के बाद बचाव अभियान दूसरे दिन भी जारी है। बचाव दल सुरंग में 15 मीटर तक घुसने में कामयाब रहे। अभी लगभग 35 मीटर और मलबा साफ करना होगा। हालांकि फंसे हुए मजदूर सुरक्षित हैं। उन्हें पाइप के जरिए खाना और पानी के साथ ऑक्सीजन पहुंचाई गई है। सीएम धामी ने भी दौरा किया

 

 

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में रविवार तड़के एक बड़ा हादसा हो गया. ब्रह्मखाल-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर सिलक्यारा से डंडालगांव के बीच निर्माणाधीन सुरंग का एक हिस्सा तड़के अचानक टूट गया जिससे उसमें काम कर रहे करीब 40 श्रमिक अंदर फंस गए. टनल हादसे को 24 घंटों से ज्यादा हो चुका है 60 मीटर के मलबे को काट दिया है और 30-35 मीटर का मलबा रह गया

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में रविवार तड़के एक बड़ा हादसा हो गया. ब्रह्मखाल-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर सिलक्यारा से डंडालगांव के बीच निर्माणाधीन सुरंग का एक हिस्सा तड़के अचानक टूट गया जिससे उसमें काम कर रहे करीब 40 श्रमिक अंदर फंस गए. टनल हादसे को 24 घंटों से ज्यादा हो चुका है 60 मीटर के मलबे को काट दिया है और 30-35 मीटर का मलबा रह गया. सिलक्यारा टनल में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए मलवा हटाने का कार्य निरंतर जारी है.पुलिस अधीक्षक (उत्तरकाशी) अर्पण यदुवंशी ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) और पुलिसकर्मी बचाव और राहत कार्यों में जुटे हुए हैं.

मलबा हटाने का काम जारी है। मुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर सिलक्यारा से डंडालगांव तक निर्माणाधीन सुरंग के अंदर भूस्खलन हुआ है। सुरंग का निर्माण एनएचआईडीसीएल के निर्देशन में नवयुगा कंपनी कर रही है। जानकारी के अनुसार सुरंग के अंदर 25 से ज्यादा मजूदर फंसे हैं। जिला आपदा प्रबंधन उत्तरकाशी ने इसकी पुष्टि की है। हालांकि अभी तक सुरंग फंसे मजदूरों की संख्या का सही आंकलन नहीं हो पाया है। कंपनी की ओर से मलबा हटाने का कार्य किया जा रहा है। श्रमिकों के बचाव के लिए मौके पर पांच एंबुलेंस भी तैनात की गई हैं। 

प्रशासन की तरफ से विभिन्न विभागों के अधिकारियों, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ की टीमों को मुस्तैद किया गया है. पुलिस के आलाधिकारी दुर्घटनास्थल पर पहुंच चुके हैं. अभी प्रयास किया जा रहा है कि जल्द से जल्द स्थिति को सामान्य किया जाए और अंदर फंसे लोगों का बाहर निकाला जाए. अंदर फंसे मजदूरों का आंकड़ा करीब 36 से 40 है. सभी मजदूर अलग अलग जगहों के हैं.

 

 

.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments