Tuesday, July 16, 2024
spot_imgspot_img
Homeरूड़की- हरिद्वारनकली  दवा मामले में दो आरोपियों की संपत्ति जब्त शामिल करीब साढ़े...

नकली  दवा मामले में दो आरोपियों की संपत्ति जब्त शामिल करीब साढ़े चार करोड़ रुपये की संपत्ति फ्रीज :

भगवानपुर क्षेत्र में नकली दवाइयां बनाए जाने के मामले में सामने आए धंधेबाजों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत जिलाधिकारी कार्यालय से करीब साढ़े चार करोड़ रुपये की संपत्ति को सीज किए जाने के आदेश जारी किए

 नकली दवा का काला कारोबार करने वाले दो आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई की :

 यह पहला मामला है जब नकली दवा के मामले में पुलिस ने इस तरह की कार्रवाई की हो। पुलिस की रिपोर्ट पर जिलाधिकारी ने आरोपियों की 4.50 करोड़ की संपत्ति जब्त के आदेश दिए हैं। पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। आरोपियों की संपत्ति में फैक्टरी, लग्जरी कार, मकान और खेती की जमीन भी शामिल है। इस संपत्ति को पुलिस ने फ्रीज करा दिया है।
एसएसपी ने बताया कि मुख्य आरोपी विशाल ने नकली दवा का धंधा करके फैक्टरी एवं जमीन की खरीद है। उसके साथी पंकज ने नकली दवा से कमाए रुपयों से अपने पिता एवं रिश्तेदारों के नाम से खेती की जमीन, गाड़ी खरीदी हैं। इन सब संपत्ति को जब्त कर सीज कर दिया गया है। एसओ अंकुर शर्मा ने बताया कि जिलाधिकारी की ओर से संपत्ति सीज करने के बाद रिसीवर नियुक्त किए गए हैं
एसएसपी हरिद्वार प्रमेंद्र डोबाल ने बताया कि अपराधियों पर शिकंजा कड़ा करने के लिए पुलिस अब उनकी संपत्ति जब्त करने की भी कार्रवाई कर रही है। अपराध कर संपत्ति अर्जित करने वाले आरोपियों के खिलाफ अभियान चल रहा है। उन्होंने बताया कि भगवानपुर थाना क्षेत्र में तीन साल पहले पुलिस ने नकली दवा मामले में विशाल निवासी अमरावती, महाराष्ट्र एवं हाल निवासी आनंद विहार कालोनी मक्खनपुर थाना भगवानपुर हरिद्वार व पंकज निवासी बहादरपुर खादर कोतवाली लक्सर को गिरफ्तार किया था। विशाल इसमें मुख्य आरोपी है
वर्ष 2022 में:-

पुलिस ने वर्ष 2022 में आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई भी की थी। मामले की विवेचना झबरेड़ा थानाध्यक्ष अंकुर शर्मा की ओर से की जा रही थी। विवेचना के दौरान पता चला कि दोनों आरोपियों ने नकली दावा के कारोबार करके ही फैक्टरी, लग्जरी गाड़ी, जमीन, रुड़की में मकान आदि खरीदा है। इस संपत्ति को चिह्नित करते हुए जिलाधिकारी को इस संबंध में रिपोर्ट भेजी गई है। इसके चलते जिलाधिकारी ने इस मामले में आरोपियों की ओर से बनाई गई 4.50 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त कर सीज करने के आदेश दिए गए थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments